• (011) 41004951/ 41320391
  • fat@fat-net.org

What Peace Means for Girls?

I feel great pleasure in sharing my journey towards understanding peace here at FAT. Recently, I got the opportunity to work on short films on peace building with 6 other girls which were to be submitted for the “What peace means to me” short film contest that was held the Peace Builders Film Festival held in Delhi from 10th to 13th October 2016. Each of the 6 girls submitted a film they made themselves, and they got an award as well!
 
Before beginning to work on the film ideas, we talked a lot about peace through questions like what is peace to me, what does peace mean, what it is called in Hindi, etc. After hearing each other, reading and discussing a lot, when we really understood the word and were able to define what peace means for each one of us personally, we felt we really need to share these thoughts with others. Taking it up as an opportunity to put our learning at FAT into an action, we felt that we had the skill to show what one feels about peace. So, 6 girls from FAT’s Young Women Leadership Program, who are also trained in video shooting and editing, decided to make short films and send it as an entry for the Peace Builder Film Festival. 
 
Ideating a peace journey
 
When the very idea of short films was shared with the girls, they started talking to each other and pondering where they feel most at peace. One thought led to the other and eventually the discussion highlighted two important points - why we look for peace in our lives and why certain things dictate our lives and deflect us from our path to attain peace. Somebody said, when she gets upset, staying alone, going to the park, looking at plants and trees give her immense pleasure and a feeling of peace. Another girl shared that she finds her peace in reading books, while for another, she feels good by staring at stars, while yet another said that playing was the source of her happiness and peace. 
 
One girl said that when she was upset, despite people around she felt lonely. But, at that moment if someone comes and asks ‘what happened’, that very question takes away all your worries and gives you a secured feeling that someone is there to talk to you and listen to you. It made her feel good and at peace. 
 
One of the girls shared that her family’s financial condition was not so good. After she passed her school, there is now a lot of pressure on her to earn to sustain the family and help them financially. This was affecting her studies, as she wants to study further. She shared that she loves reading so much that when she reads a book she would travel into another world where nobody told her what to do and there she could do whatever she wanted to do.
 
During one of the discussions, the girls shared that every day at home, at work, at school, something or the other happens from which they want to come out. During this discussion, two prominent concerns came up collectively. Firstly, why nobody thinks about them (the girls) and why nobody would see that certain things upsets them as well. 
 
In spite of me being acquainted with them, through the making of this short film I got an opportunity to know more about them. Often during our conversations these girls would share about their lives, and I began to understand through this peace journey (of making the film) the tiny things that these girls did for their inner peace. 
 
Creating the peace journey
 
Before commencing the shooting, we asked the girls to either write it down on paper or draw a sketch on whatever they wanted to showcase in the film. These ideas and thoughts were then converted into a story board. When we started shooting most of the girls tried to capture the shots themselves during which they also helped each other in every possible way and simultaneously enjoyed the process.
 
After the shooting, I helped each girl in editing her video so that their short film on peace was narrated according to their way of thinking and idea. This helped the girls in understanding the process of editing and they also showed interest in learning it in future. 
 
These short films were sent as entries to Peace Builder Film Festival and to our surprise they won a prize also. I could not believe my eyes when I read that all of them have won the competition. I was running from table to table showing the email to people. I felt like I was on top of the world that day. We were invited for the prize distribution event on 13th October, 2016 where our girls were handed over certificates and at the end of the event their films were screened. That day we stayed out till late in the night. Every girl convinced her parents to allow them to go and receive their award. 
 
"I was so happy. This is such a big achievement, not only for me but for these girls. I fall short of words to express my joy. All the girls, the directors and heroes of these short films, were able for the first time to showcase their inner peace, their happiness and that too for the world to see. I knew we were competing with professionals, but deep inside me there was a hope that if not all, at least one of our girls would win."
 
If I think back about learning, this whole peace journey was a life changing experience for all of us. Now, I just want all these films on peace get published on FAT’s Youtube channel for others to watch and takeaway the actual meaning of peace.
 
~ Deepika, Program Trainee, FAT
(This blog has been translated/ written by Harvinder Kaur who handles Communications and Social Media at FAT)
 
लड़कियों के लिए ‘पीस’ (अमन/शांति) का क्या अर्थ है?
 
अमन/शांति को समझने की मेरी जो फैट में यात्रा रही है उसे बताने में मुझे बेहद ख़ुशी महसूस हो रही है| हाल ही में मुझे छे और लड़कियों के साथ ‘मेरे लिए पीस का क्या अर्थ है (What does peace mean to me)’, इस विषय पर के ‘शोर्ट फिल्म’ बनाने और पीस बिल्डर्स फिल्म फेस्टिवल में, जो दिल्ली में १० – १३ अक्टूबर, २०१६ को आयोजित की गयी थी, इस फिल्म को प्रस्तुत करने का मौका मिला| हर लड़की ने अपनी फिल्म खुद बनाई और उसके लिए हमे पुरस्कार भी दिया गया!
 
फिल्म की शुरुआत से पहले, हमने इस पर बहुत विचार-विमर्श किया – हमने ‘पीस’ पर चर्चा करते वक़्त एक दुसरे से, और खुद से कई सवाल पूछें – मेरे लिए पीस क्या है? पीस का मतलब क्या है? इसका हिंदी में क्या अनुवाद होता है? जब हमने एक दुसरे की राय सुनी, पढ़ा और उस पर चर्चाएँ की तब हर एक लड़की को पीस की व्यक्तिगत परिभाषा मिली, और हमे यह महसूस हुआ की हमे हमारे विचार सब के साथ बाटने चाहिए| पीस की हमारी समझ को दर्शाने में, फैट में मिली सीख और तकनिकी सिक्षा का उपयोग करने का मौका मिला| इस सोच से, फैट की ‘यंग वीमेन लीडरशिप प्रोग्राम’ की छे लडकियाँ, जो विडियो शूटिंग और एडिटिंग में प्रशिक्षित हैं, ने शोर्ट फिल्म बनाके पीस बिल्डर फिल्म फेस्टिवल में भेजने का निर्णय लिया|
अमन की यात्रा की कल्पना 
 
जब इस फिल्म के बारे में लड़कियों से बात की तो उन्होंने एक दुसरे से चर्चा किया और सोचने लगी की उन्हें कहाँ सबसे ज़्यादा शांति महसूस होती है| बातचीत के दौरान दो बहुत महत्वपूरण बातें सामने आई – हम शांति क्यूँ ढूंढते है? और क्यूँ हमारे ज़िन्दगी में कुछ चीजों की तानाशाही है जो हमारी शांति भंग करती है? एक ने बताया की जब वो परेशान होती है तब उसे अकेले रहने में, पार्क जाने में, पेड़-पौधों को देखने में ख़ुशी और शांति मिलती है| किसी को किताबे पढ़ने में शांति मिलती है तो किसी को तारों को निहारने में, और किसी को खेलने-कूदने में ख़ुशी मिलती है|    
 
एक लड़की ने बताया की जब वो दुखी या परेशान होती है, तो लोगों के आस पास होने के बावजूद भी उसे बहुत अकेला महसूस होता है| पर जब कोई उसे पूछे की उसे क्या हुआ है, तो ये साधारण सा सवाल उसकी घबराहट कम कर देती है और उसे शांत और सुरक्षित लगता है| 
 
एक ने बताया की उसकी परिवार की आर्थिक स्थिति इतनी मजबूत नहीं है| स्कूल की पढाई ख़तम करने के बाद उस पर बहुत दबाव है की वो कमाए और घर चलाने में मदद करें| इससे उसकी आगे की पढाई पर बहुत असर पड़ रहा है| उसने बताया की उसे किताबों से बहुत प्यार है, और जब वो कोई कहानी पढ़ती है तो एक दूसरी दुनिया में पहुच जाती है जहां उस पर कोई हुक्म नहीं चलाता और वो अपनी मन की करती है| 
 
बातचीत के दौरान लड़कियों ने बताया की हर दिन, घर पर, स्कूल या काम के दौरान कुछ ना कुछ ज़रूर होता है जिससे वो निकल आना चाहती है; दो बड़े मुद्दे निकल कर बाहर आयें – कोई हमारे (लड़कियों) बारे में नहीं सोचते; और ऐसा क्यूँ है की किसी को नहीं दिखता की हमे भी कुछ चीज़ें दुःख देती है, कष्ट पहुचाती है| 
 
अमन की यात्रा का निर्माण 
 
शूटिंग शुरू करने से पहले, लडकियों को फिल्म में क्या दर्शाना है ये लिखके या स्केच बनाके दिखाने को कहा -फिर इन विचारों को स्टोरी बोर्ड में रूपांतरित किया| शूटिंग के दौरान सभी लड़कियों ने अपने शॉट्स खुद लेने की पूरी कोशिश की और एक दुसरे की पूरी मदद भी की – उन्होंने इस पूरी प्रक्रिया का बहुत आनंद लिया| 
 
शूटिंग के बाद मैंने हर लड़की को अपना विडियो एडिट करने में मदद किया ताकि उनकी शोर्ट फिल्म उनकी सोच और समझ के अनुसार सुनाई जाए| इससे लड़कियों को एडिटिंग की प्रक्रिया को समझने का मौका मिला और भविष्य में सीखने के लिए रूचि भी दिखाई| 
 
इन सारी शोर्ट फिल्म्स को पीस बिल्डर फिल्म फेस्टिवल में भेजा गया, और हमे आश्चर्य हुआ की हमे पुरस्कार भी मिला| मुझे विश्वास नहीं हुआ जब मैंने पढ़ा की सारी लड़किया यह प्रतियोगिता जीती है| में एक टेबल से दुसरे टेबल में जा जा के सबको यह इ-मेल पढ़ा रही थी – वो मेरी ज़िन्दगी का एक बड़ा दिन था| हमे पुरस्कार वितरण के लिए १३ अक्टूबर, २०१६ को आमंत्रित किया, जहाँ सारी लड़कियों को प्रशंसा पत्र (certificates) दिया, और आखिर में हमारी फिल्म भी दिखाई गयी| हम देर रात तक वहाँ रहे – सबने अपने माँ-बाप को माना लिया था| 
 
“मुझे बहुत ख़ुशी हुई| यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि है – सिर्फ मेरे लिए ही नहीं बल्कि सारी लड़कियों के लिए| लफ्ज़ कम है इस ख़ुशी को बयान करने के लिए| सब लड़कियां, निर्देशक, अभिनेताये पहली बार इस शोर्ट फ्लिम के माध्यम से अपनी आतंरिक शांति, अपनी ख़ुशी दुनिया को दर्शाना चाहते थे| में जानती थी की हमारा मुकाबला प्रोफेशनल्स के साथ था, पर एक उम्मीद थी की अगर सारी ना जीत सकें तो कम से कम हमारी एक लड़की तो जीतेगी|”
 
अगर में इस पूरी यात्रा की सीख के बारे में सोचूँ, तो यह अनुभव ज़िन्दगी बदल देने वालों में से है| अब इंतज़ार है की यह फिल्म्स फैट के यू ट्यूब चैनल पर प्रकाशित हो ताकि अधिकतर लोग देखे और अमन/शांति के असल मतलब को समझ सके|
 
- दीपिका, कार्यक्रम ट्रेनी, FAT
(This blog has been translated/ written by Harvinder Kaur who handles Communications and Social Media at FAT)